सिर्फ सानंद नहीं मरे, मरी तो उम्मीदें हैं…बिल्कुल मुर्दा जैसी…

on

|

views

and

comments

एक ओर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चैंपियन ऑफ अर्थ का पुरुस्कार ले रहे थे तकरीबन उसी दौरान स्वामी सानंद गंगा की निर्मलता के लिए अपने प्राणों का उत्सर्ग करने की तैयारी कर रहे थे। पीएम मोदी के कार्यालय में पड़ी स्वामी सानंद की चिट्ठियों का पता तो सही था लेकिन उन चिट्ठियों में जो उम्मीदें थीं वो शायद गलत थीं। क्या हुआ अगर किसी देश का प्रधानमंत्री चैंपियन ऑफ अर्थ का पुरुस्कार ले और उसी देश में एक पर्यावरणविद, उसी देश की सबसे पवित्र नदी की निर्मलता की मांग लिए 111 दिनों के अनशन के बाद मर जाए। क्या हुआ, पुरस्कार तो मिला ही।

modi with champion of earth

आप अपने अंतस से कितना नाराज हो सकते हैं। इतने नाराज कि तिल तिल कर खुद को मारते रहें। मौजूदा हालात में ऐसे लोगों को तलाशना मुश्किल है जिनका अन्तर्मन औरों की वेदना को देख कर दुखी होता हो। फिर नदी, नाले, पेड़, जंगल के लिए कोई अपनी जान दे सकता है क्या? ये सोचने में भी जेहन को तैयारी करनी पड़ती है। मुश्किल से ऐसा सोचा जाता है। एक बूढ़े रिटायर्ड प्रोफेसर ने लेकिन ऐसा सोचा। न सिर्फ सोचा बल्कि किया भी। न सिर्फ किया बल्कि करते करते मर भी गया।

swami sanand dead body

लोग दिन गिन रहें हैं। कितने दिन सानंद अनशन पर बैठे रहे। गिन ही रहें हैं तो गंगा के भी दिन गिन लेने चाहिए। न जाने और कितने दिन बचे हैं गंगा के। सानंद अपनी रिटायर्ड लाइफ के दिनों में 111 दिनों में अधिकतर समय एक कुर्सी पर बैठे रहे। बिल्कुल शांत। गंगा की अविरलता और निर्मलता की मांग को मन में भरे हुए।

इसे जरूर पढ़िए – अगर आपने बनारस की गलियां नहीं देखी तो जल्दी करिए क्योंकि नरेंद्र मोदी जल्दी में हैं।

सड़ांध मारते सिस्टम में स्वामी सानंद को ऐसा सोचने और ऐसी उम्मीद बांधे रखने के लिए किसने कहा, पता नहीं। ऐसे में जब आप देश की सत्ता के शीर्ष पर बैठे व्यक्ति के उस बयान को याद करते हैं जिसमें वो कहता है कि, उसे तो मां गंगा ने बुलाया है तो सबकुछ बेहद हास्यास्पद और निराशाजनक लगता है। लोकतांत्रिक झूठ जैसा।

ganga poll

गंगा क्या है? एक नदी, एक संस्कृति, सनातन का आधार? फिर सिर्फ एक नदी भी मान लीजिए तो भी उसे निर्मल, अविरल रहने का अधिकार है। लेकिन हमारी मुर्दा कौम चुप रहती है। बिल्कुल चुप। उम्मीदों को मुर्दा कर देने का हुनर ऐसी चुप्पियों से ही आता है। हम सब ये हुनर सीख गए हैं इसलिए सानंद मर गए। चुपचाप।

Share this
Tags

Must-read

त्रिवेंद्र का इस्तीफा रीजनल मीडिया के लिए एक सबक है, हम बीमार हो गए हैं…

  उत्तराखंड में हुआ सियासी घटनाक्रम भारत की रीजनल मीडिया के लिए एक सबक है। उत्तराखंड में रीजनल मीडिया खासी सशक्त है और अपना प्रभाव...

काशी रहस्य।। सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं – भाग 3

  मणिकर्णिका का तिलिस्म और कालरात्रि सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं। कल मैंने बिस्सू भैय्या और दैय्या गुरू का किस्सा सुनाया था। यकीन मानों उसके बाद पूरी...

काशी रहस्य।। सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं – भाग 2

सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं !!! रूप बदलती भैरवी और बाबा मसान नाथ के साधक... सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं। उस दिन मैंने तुम्हें अपनी इस धरा के...

Recent articles

कुछ और चुनिंदा लेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here