वो व्हील चेयर पर चलती हैं और मिस वर्ल्ड का खिताब जीतने निकली हैं, बेमिसाल है उनका जज्बा

on

|

views

and

comments

ये दुनिया बेमिसाल जज्बा रखने वालों से भरी पड़ी है। आप तलाशने निकलेंगे एक को तो सौ मिलेंगे। ऐसी ही एक बेमिसाल जज्बे की नायाब नजीर हैं भारत की दो महिलाएं। एक हैं बंगलुरू की डाक्टर राजलक्ष्मी और दूसरी हैं नोएडा की प्रिया भार्गव। ये दोनों ही महिलाएं हर उस शख्स के लिए मिसाल हैं जो व्हील चेयर पर बैठने के बाद अपनी जिंदगी को खत्म समझने लगते हैं।

ये दोनों ही महिलाएं पोलैंड में अगले महीने होने वाली मिस वर्ल्ड व्हील चेयर में हिस्सा लेने जा रहीं हैं। डाक्टर राजलक्ष्मी जब 21 साल की थीं तो उनका एक रोड एक्सीडेंट हो गया। स्पाइनल इंजरी की वजह से राजलक्ष्मी पैरों से अपंग हो गईं लेकिन दिल दिमाग से नहीं। डाक्टर राजलक्ष्मी ने अपनी डेंटिस्ट की पढ़ाई पूरी की और फिलहाल आर्थोडेंटिस्ट के तौर पर कार्य कर रहीं हैं।

                                                                                         DSC_4019_pp-1152x1728

डाक्टर राजलक्ष्मी समाज में व्याप्त उस अवधारणा को ठीक नहीं समझती जो व्हील चेयर पर चलने वालों को कमतर आंकती है। डा. लक्ष्मी शारीरिक अपंगता से अधिक मानसिक अपंगता को खतरनाक मानती हैं। डाक्टर लक्ष्मी विशेष रूप से उनके लिए बनाई गई कार में लांग ड्राइव पर जाती हैं और टेनिस खेलती हैं।

ऐसी हीं एक अन्य महिला हैं प्रिया भार्गव पेशे से टीचर प्रिया बेहद खूबसूरत हैं और मिस इंडिया व्हीलचेयर 2015 का खिताब जीत चुकी हैं। अब प्रिया की निगाहें पोलैंड में होने वाले खिताबी मुकाबले पर हैं। जल्द ही प्रिया पोलैंड के लिए रवाना होने वाली हैं। हालांकि पैसों की दिक्कत के चलते उन्हें खासी परेशाानियां हो रहीं हैं। अपने दोस्तों से मदद की उम्मीद लगाए बैठीं प्रिया पुरजोर कोशिश कर रहीं हैं कि खिताब अपने नाम कर सकें।

priya bhargav

ये दोनों ही महिलाएं अपने दम पर उस समाज को आईना दिखा रहीं हैं जो अपंगता को एक अभिशाप के तौर पर लेता है। भेदभाव भरे नजरिए के खिलाफ ये एक खूबसूरत खिताबी लड़ाई है।

Share this
Tags

Must-read

त्रिवेंद्र का इस्तीफा रीजनल मीडिया के लिए एक सबक है, हम बीमार हो गए हैं…

  उत्तराखंड में हुआ सियासी घटनाक्रम भारत की रीजनल मीडिया के लिए एक सबक है। उत्तराखंड में रीजनल मीडिया खासी सशक्त है और अपना प्रभाव...

काशी रहस्य।। सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं – भाग 3

  मणिकर्णिका का तिलिस्म और कालरात्रि सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं। कल मैंने बिस्सू भैय्या और दैय्या गुरू का किस्सा सुनाया था। यकीन मानों उसके बाद पूरी...

काशी रहस्य।। सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं – भाग 2

सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं !!! रूप बदलती भैरवी और बाबा मसान नाथ के साधक... सुनो, मैं मणिकर्णिका हूं। उस दिन मैंने तुम्हें अपनी इस धरा के...

Recent articles

कुछ और चुनिंदा लेख

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here