उम्र का क्या दोष

310

क्यों हवाला देते हो उम्र का
उम्र का क्या दोष
आखिर इसे भी तो बचपन पसंद है
यह मजबूरी इसकी भी तो है
यह खुद को बढ़ने से रोक नहीं सकती
हर वक़्त हर पल यह बढ़ रही है
इसमें क्या गलती है इसकी
हाँ तुम चाहो तो खुद को
अपनी उम्र से अलग कर लो
फिर तुम्हे बूढे होने का डर नहीं होगा
लेकिन रुको
जरा यह भी तो सोचो
इसी उम्र ने ही तो
तुम्हे सुख दिया है बचपन का
फिर कैसे अलग करोगे
रहने दो
इस उम्र को अपने साथ
शायद फिर बचपन लौट आये…….
आशीष तिवारी

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here